भावांतर भरपाई योजना से ना किसानों भावांतर मिलता, ना नुकसान की भरपाई होती- हुड्डा

ALAKHHARYANA.COM30 सितंबर, रोहतकः पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने मंडियों में धान की बेकद्री पर गहरी चिंता जाहिर की है। हुड्डा का कहना है कि करीब 14 लाख क्विंटल धान मंडियों में खुले आसमान के नीचे पड़ी है। लेकिन सरकार की तरफ से खरीद नहीं की जा रही। जबकि खुद सरकार ने 25 सितंबर से सरकारी खरीद शुरू करने का एलान किया था। इस बीच रुक-रुककर हो रही बारिश के चलते किसानों की धान खराब हो रही है। सरकारी लेटलतीफी के चलते किसानों को एमएसपी से कम रेट पर अपनी फसल बेचनी पड़ रही है।

रोहतक में पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने सरकार के बाजरा नहीं खरीदने वाले बयान पर भी कड़ी आपत्ति जाहिर की। हुड्डा का कहना है कि पहले सरकार किसानों को धान छोड़कर बाजरा उगाने के लिए प्रोत्साहित करती है और अब वो खुद बाजरा नहीं खरीदने की बात करती है। यह किसान विरोधी फैसला है। सरकार जिस भावांतर भरपाई योजना के जरिए बाजरा उत्पादक किसानों को फायदा पहुंचाने की बात कर रही है उसने सब्जी उत्पादक किसानों को बर्बादी की कगार पर ला दिया है। इस योजना से ना किसानों को भावांतर मिल पाता और ना ही उनके नुकसान की भरपाई हो पाती। इसलिए सरकार को अपने वादे के मुताबिक बाजरा और सभी फसलों का एक-एक दाना खरीदना चाहिए।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि जलभराव आज भी किसानों के सामने बड़ी समस्या बना हुआ है। अधिक बारिश की वजह से फसलों को काफी नुकसान पहुंचा है। अब तक किसानों को उसका मुआवजा नहीं मिल पाया है। जिन खेतों में आज भी पानी खड़ा है, वहां पर भी निकासी की कोई व्यवस्था नहीं की गई है। सरकार को जल्द ही खराब हुई फसलों का मुआवजा देना चाहिए और जल निकासी के लिए व्यवस्था करनी चाहिए ताकि किसान अगली फसल के लिए अपने खेत को तैयार कर सकें।

पत्रकारों से बातचीत में हुड्डा ने प्रदेश में बढ़ती बेरोजगारी, अपराध और एनसीआरबी के ताजा आंकड़ों का भी ज़िक्र किया। उन्होंने बताया कि बीजेपी-जेजेपी सरकार ने हरियाणा को हत्या, बलात्कार, महिलाओं पर अत्याचार, किडनैपिंग और चोरी जैसी वारदातों के मामले में देश के टॉप राज्यों में लाकर खड़ा कर दिया है। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश की कानून व्यवस्था और सड़कें, दोनों की हालत बेहद खस्ता है। हल्की सी बारिश के बाद तमाम सड़कें पानी से लबालब हो जाती हैं। सड़कों के गड्ढे जानलेवा हादसों को न्योता देते हैं। प्रदेश का ऐसा कोई जिला नहीं है जहां पर सड़कों की हालत बेहतर हो। कांग्रेस कार्यकाल में जिन सड़कों का निर्माण हुआ, बीजेपी सरकार उनपर पैच वर्क तक नहीं करवा सकी।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.