हड़ौदी सड़क हादसे की स्मृति 2002 में हुए सड़क हादसे में प्राण गंवाने वाले किसानों की 19वीं बरसी पर आयोजित रक्तदान शिविर


  Shiv Yogi kanhra
  12 Jan 2021

रक्त का कोई विकल्प नहीं है, दुर्घटना या अन्य गंभीर बीमारी की अवस्था मे केवल रक्तदाताओं द्वारा दिया गया रक्त ही किसी का जीवन बचा सकता है। हड़ौदी सड़क हादसे की स्मृति में आयोजित रक्तदान शिविर में एसडीएम  शम्भू राठी द्वारा रक्तदाताओं को सम्मानित करते हुए यह बात कही।
   2002 में हुए सड़क हादसे में प्राण गंवाने वाले किसानों की 19वीं बरसी पर आयोजित इस शिविर में मुख्य अतिथि के रूप में एसडीएम बाढड़ा उपस्थित रहे। रक्तदान शिविर के बारे में जानकारी देते हुए संजय श्योराण और जगबीर चांदनी ने बताया कि रक्तदान शिविर सड़क हादसे की बरसी पर वर्ष 2014 से निरंतर लगाया जा रहा है। रक्तदाताओं की हौसला अफजाई करते हुए एसडीएम शम्भू राठी ने कहा कि रक्तदान करना मानवीयता को बढ़ाना है। रक्त का कोई विकल्प नहीं है इसलिए हर स्वस्थ व्यक्ति को नियमित रूप से रक्तदान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि आपके द्वारा किया गया रक्तदान एक बार में तीन व्यक्तियों की जान बचाता है। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे खंड शिक्षा अधिकारी बाढड़ा जलधीर सिंह ने पूरे समय कैम्प में रह कर रक्तदाताओं को बैज लगाकर और प्रशंसा-पत्र देकर के सम्मानित किया। बीईओ ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय हड़ौदी की एनएसएस यूनिट और रक्तदाताओं का धन्यवाद करते हुए कहा कि यह एक पुनीत कार्य है। इस प्रकार के आयोजन से छात्रों को भी रक्तदान की प्रेरणा मिलेगी। कार्यक्रम के संयोजक हरपाल आर्य ने बताया कि शिविर में कुल 53 यूनिट रेडक्रॉस नई दिल्ली की टीम ने एकत्रित किया। इस अवसर पर सुखविंद्र मांढी पूर्व विधायक, डीडीओ वेदवती, प्राचार्य रामचंद्र, रामप्रताप एनएसएस अधिकारी, भलेराम चेयरमैन, सोमबीर बाढड़ा, सुंदरपाल फौगाट, संजीव कुमार, अनिल, राजकुमार हड़ौदी आदि उपस्थित रहे।


Vidya Softwares

संबंधित खबरें



0 Comments

एक टिप्पणी छोड़ें

 
1928