मॉडल स्कूल प्रिंसिपल हो गई डीसी से बड़ी , नहीं मानती आदेश , अभिभावकों ने भिजवाया लीगल नोटिस


  alakh haryana
  05 Apr 2021



रोहतक, 5 अप्रैल। पिछले तीन महीनों से मॉडल स्कूल अम्बेडकर चौंक द्वारा वसूली जा रही नाजायज एनुअल फीस के लिए संघर्ष कर रहे अभिभावकों ने आज शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुज्जर, हरियाणा सरकार के मुख्य सचिव, सैकेंडरी शिक्षा विभाग के निदेशक, प्राथमिक शिक्षा विभाग के निदेशक, फीस एडं फंड रेगुलेटरी कमेटी के चेयरमैन कम कमिश्नर, चेयरमैन एवं जिला उपायुक्त मॉडल स्कूल एवं जिला शिक्षा अधिकारी, जिला प्राथमिक शिक्षा अधिकारी व स्कूल प्रिंसिपल अरूणा तनेजा को लीगल नोटिस भिजवाया है। मॉडल स्कूल पेरेन्ट्स यूनियन के अध्यक्ष रणधीर खटकड़ ने बताया कि यह लीगल नोटिस एडवोकेट प्रवीण शर्मा की मार्फत भेजे गये हैं। जिसमें माननीय सुप्रीम कोर्ट व पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के आदेशों की अवहेलना मुख्य मुद्दा है। स्कूल प्रिंसिपल अपनी हठधर्मिता से हजारों बच्चों का भविष्य बर्बाद करने पर तुली हुई हैं। 
उन्होंने बताया कि स्कूल प्रिंसिपल अरूणा तनेजा आज भी अपनी हठधर्मिता पर कायम है तथा जिला उपायुक्त कैप्टन मनोज कुमार के आदेशों के बावजूद भी अब तक स्कूल में बच्चों के रिजल्ट जारी नहीं कर रही है। इसके अलावा आज तक ऐनुअल व डेवल्पमेंट चार्ज फीस से नहीं हटाये गये हैं। जिससे अभिभावकों में भारी आक्रोश है। वहीं प्रिंसिपल अरूणा तनेजा अभिभावकों को अपने बच्चों की एसएलसी के लिए 10 अप्रैल तक का अल्प समय दे रही हैं। जबकि स्कूल प्रशासन 18 अप्रैल तक फीस वसूलता है तो स्कूल प्राचार्या को ऐसी कौन सी मजबूरी है कि वो एसएलसी लेने का दबाव अभिभावकों पर बना रही हैं तथा दूसरी तरफ ऐनुअल फीस के नाम पर अनैतिक रूप से 8000 रूपये प्रति बच्चा मांग रही हैं। 
अभिभावकों ने कहा कि प्रशासनिक अधिकारी उनकी समस्या का निराकरण नहीं कर रहे हैं। बार-बार जिला उपायुक्त से मिला जा चुका है और बार-बार आश्वासनों के बाद भी प्रिंसिपल का वही रवैया रहता है। प्रिंसिपल जिला उपायुक्त के आदेशों को भी नहीं सुन रही तथा लगातार परीक्षा परिणाम रोके हुए है। जिससे उन्हें प्रशासनिक अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर शक हो रहा है। अभिभावकों ने कहा कि अम्बाला में भी ऐसे ही एक स्कूल अभिभावकों को ऐनुअल चार्ज के नाम पर परेशान कर रहा था। जिस पर वहां के जिला शिक्षा अधिकारी ने स्कूल को पत्र लिखकर स्पष्ट निर्देश देकर परीक्षा परिणाम घोषित करने, सिर्फ मासिक फीस वसूलने तथा अभिभावकों को बिना किसी समय की देरी किये स्कूल छोडऩे का प्रमाण पत्र दिये जायें।
अभिभावकों ने कहा कि मॉडल स्कूल की सेक्टर-4 ब्रांच द्वारा आज तक किसी भी बच्चे का परीक्षा परिणाम नहीं रोका जा रहा जबकि अम्बेडकर चौंक वाली ब्रांच पर प्रिंसिपल इन पर रोक लगाये बैठी है।
अभिभावकों ने आरोप लगाया कि प्रिंसिपल द्वारा शिक्षा के मंदिर को स्वार्थ का अखाड़ा बना दिया गया है। जहां अभिभावकों का जमकर दोहन किया जा रहा है और आवाज उठाने पर उनके बच्चों के परीक्षा परिणाम रोके जा रहे हैं। जिसे वे किसी भी सूरत में सहन नहीं करेंगे। अभिभावकों ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो वे इस मामले को हाईकोर्ट तक लेकर जायेंगे लेकिन प्रिंसिपल की मनमानी नहीं सहेंगे।
इस अवसर पर मुख्य रूप से एडवोकेट संदीप राठी, प्रदीप सिंधु, विकास शर्मा, देवेन्द्र गुलिया, अनिल बहल, डिम्पल खुराना, अजय कुमार, रवि, संजीव कुमार, दीपक कुमार, भूपेन्द्र सिंह, मन्दीप बल्हारा, सतबीर, संजीव कुमार बत्तरा, नितिन मलिक, विक्रम, सन्नी, रेशू, लीना आदि अभिभावक मौजूद रहे।

Tags

ROHTAK MODEL SCHOOL


Vidya Softwares

संबंधित खबरें



0 Comments

एक टिप्पणी छोड़ें

 
0814