अब टोल के लिए नहीं लगेंगी लाईन


  
  09 Nov 2017

नेशनल हाईव पर गुजरते समय अब आपको टोल देने के लिए लंबी लंबी लाईनों में नहीं लगना पड़ेगा। नेशनल हाईवे पर टोल वसूलने की प्रणाली को सामान्य बनाने और लंबे इंतजार से वाहनों का समय बचाने के लिए सरकार इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन प्रणाली लेकर आएगी जो दिसंबर में शुरू हो जाएगा। इस फास्टैग से ना सिर्फ समय की बचत भी होगी, बल्कि टोल पर होने वाले झगड़ो से भी छुटकारा मिलने की उम्मीद जताई जा रही है। 
केंद्रीय सडक़ परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने मीडिया से बात करते हुए बताया, ‘‘एक दिसंबर के बाद सडक़ों पर आने वाले सभी वाहनों में फास्टैग लगा होगा ताकि राष्ट्रीय राजमार्ग पर पूरे देश में कैशलेश टोल कलेक्शन को आसान बनाया जा सके। कुल साढ़े सात लाख वाहनों में पहले से फास्टैग लगा हुआ है। अगले साल मार्च 2018 तक इसकी संख्या बढ़ कर 25 लाख हो जाएगी’’। उन्होंने कहा, ‘‘आगामी दो महीने में राष्ट्रीय राजमार्गों पर फास्टैग रेडी कुल 3500 लेन बनाए जायेंगे। मंत्री ने बताया कि मौजूदा समय में फास्टैग से दस करोड़ रुपये का राजस्व अर्जित हो रहा है.
गौरतलब है कि, देशभर के करीब 391 टोल प्लाजा पर लगने वाले लंबे जाम से लोगों को राहत देने के लिए सडक़ परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय ने 3 मई को एक अधिसूचना जारी की थी। इस अधिसूचना के मुताबिक, 1 जुलाई से सभी व्यावसायिक वाहनों के शीशे पर (ड्राइवर के बाईं ओर) फास्टैग लगाना अनिवार्य किया गया था। उस समय कहा गया था कि ये व्यवस्था सफल होने पर इसे व्यावसायिक वाहनों के बाद अन्य वाहनों पर भी लागू कर दी जाएगी। अब फास्टैग की व्यवस्था अन्य वाहनों के लिए उपलब्ध करवाई जा रही है.
ऐसे काम करता है फास्टैग
फास्टैग लगे वाहनों के लिए टोल प्लाजा पर अलग से लेन होगी. प्लाजा पर लगे सेंसर फास्टैग को कुछ मीटर की दूरी से ही पढ़ लेगा और खुद-ब-खुद टैक्स अदा हो जाएगा। कुछ देर में यात्री को उसके बैंक एकाउंट से निकलने वाले पैसे की जानकारी एसएमएस के जरिये मोबाइल पर मिल जाएगी। भविष्य में इस टैग के जरिये पेट्रोल भरवाने और राज्य सीमा के चेकपोस्ट पर भुगतान करने जैसे काम भी किए जा सकेंगे।


Vidya Softwares

संबंधित खबरें



0 Comments

एक टिप्पणी छोड़ें

 
3844