अलख का अलख जगाने का नन्हा सा प्रयास


  डॉ सतीस त्यागी
  31 Dec 2016

अलख हरियाणा औपचारिक रूप से आपके सामने है। एक ऐसे दौर में जब सैकड़ों टीवी चैनल्स हर समय खबरें परोस रहे हों और दर्जनों अखबार आपके ही शहर में दस्तक दे रहे हों , ऐसे में एक और अखबार का क्या औचित्य है, यह सवाल आपके दिमाग में उठना स्वाभाविक है। कोई धनकुबेर अखबार का धंधा करे या कोई राजनेता अपने राजनीतिक हितों के लिए ऐसा उपक्रम करे तो भी समझ में आता है लेकिन सीमित साधनों वाले व साधारण परिवारों से निकले लोग गंभीरता से अखबार निकालनें का निर्णय लें तो थोड़ी हैरत होती ही है। अलख हरियाणा से जुड़े लोग धन -सम्पदा व राजनीतिक शक्ति के आलोक में जीने वाले लोग नहीं हैं बल्कि उस पत्रकारिता के पक्षधर हैं जो समय के प्रवाह में बह गयी है। मीडिया बिकाऊ है, मीडिया दलाल है, मीडिया झूठा और चापलूस है इत्यादि -इत्यादि जुमले आज आम लोगों की जुबान पर हैं लेकिन इस बीमार मीडिया का इलाज क्या है और यह इलाज कौन करेगा, यह शायद हमारी सामाजिक चिंता का विषय नहीं है! मीडिया में व्याप्त अँधेरे को कुछ कम करने के लिए कोई न कोई तो शुरुआत करनी ही होगी। अलख हरियाणा इसी दिशा में एक प्रयास है, अलख जगाने और अलख जलाने की कोशिश है। हमारे प्रयास और आपके सहयोग से यदि हमारे छोटे से शहर में  यह प्रयोग सफल हुआ तो निश्चित  यह एक बड़ा काम होगा!
अलख हरियाणा इतिहास के उस समय -बिंदु पर आपके बीच आ रहा है जब हरियाणा राज्य के रूप में 50 वर्ष का हो गया है और हम सब राज्य की स्वर्ण जयंती का उत्सव मनाना शुरू कर रहे हैं। भविष्य की यात्रा अतीत की यात्रा से ज्यादा चुनौतीपूर्ण है। जरूरी है कि राज्य और समाज के सभी स्टेक होल्डर्स पूरी मुस्तैदी से इस यात्रा के पथिक बनें। मीडिया की जिम्मेवारी सबसे ज्यादा है क्योंकि उसकी भूमिका एक सजग प्रहरी की है। अपने हिस्से की जिम्मेवारी हम पूरी ईमानदारी से निभाने की कोशिश करेंगे, यह भरोसा आपको दिलाते हैं।


Vidya Softwares

संबंधित खबरें



0 Comments

एक टिप्पणी छोड़ें

 
2118