धोनी में बाकी है अभी फिनिशिंग टच


  डाॅ.रोहित बंसल (खेल जानकार)
  21 Jan 2019

डाॅ.रोहित बंसल (खेल जानकार)
भारत और आस्ट्रेलिया के बीच वनडे सीरीज में महेंद्र सिंह धोनी ने अपने प्रदर्शन से एक बार फिर साबित कर दिया कि क्यों उन्हें एकदिवसीय क्रिकेट के सर्वकालिक महानतम फिनिशर्स में से गिना जाता है । गत एक वर्ष से फार्म से जूझ रहे धोनी ने अपने झुजारु प्रदर्शन से आलोचकों को करारा जवाब दिया और टीम में अपनी जगह को लेकर लग रहे प्रशन चिन्हों पर भी पूर्ण विराम लगा दिया। उन्हीं आलोचकों ने अब यूटूर्न लेते हुए उनको टीम की  जरूरत बताया है । इस सीरीज में खेले गए तीनों मैचों में एमएस धोनी ने निरन्तरता दिखाते हुए अर्धशतक लगाया और आखिरी दो मैचों में अपनी फिनिशर की भूमिका को सार्थक करते हुए टीम को कंगारुओं की धरती पर सीरीज जीतने में अहम भूमिका अदा की। अभी विश्व कप के शुरू होने में बहुत कम समय बाकी है और अगर भारत के मिडिल आर्डर का बारीकी से आकलन किया जाए तो अनुभव की कमी साफ झलकती है जिसे धोनी की मौजूदगी काफी हद तक पूरा कर सकती है । धोनी एक हरफनमौला खिलाड़ी है जो अपनी छवि और विलक्षण प्रतिभा की वजह से टीम में एक मेंटर की भूमिका अदा करते हैं । विकेट के पीछे रहकर वो गेंदबाजों को विरोधी टीम के बल्लेबाज की कमियों को ध्यान में रखकर लाइन लेंथ परिवर्तित करने के लिए अमुल्य सुझाव देते हैं जो अक्सर कारगर साबित होते हैं । कप्तान के तौर पर कोहली अभी इतने परिपक्व नहीं हुए हैं कि अत्याधिक दबाव की स्थिति में सही निर्णय ले सकें ।
 ऐसी स्थिति में धोनी अपने अनुभव और पारखी नजर का इस्तेमाल करते हुए टीम को संकट से उभारते हैं । उन्होंने अपने हालिया प्रदर्शन से ये साबित कर दिया कि अनुभव और कुशलता का कोई विकल्प नहीं होता । एकदिवसीय क्रिकेट में धोनी का बेहतरीन रिकार्ड इस बात का प्रमाण है कि लक्ष्य का पीछा करने में धोनी का कोई सानी नहीं है । उनका कभी हार न मानने का जज्बा, शांत स्वभाव और लीक से हटकर सोच उनको दूसरे खिलाड़ियों से अलग करता है । इसमें कोई सन्देह नहीं है की धोनी का फिनिशिंग टच अभी बाकी है और उनका विकल्प दूर दूर तक नहीं है। आगामी विश्व कप में धोनी के बिना भारतीय टीम की कल्पना करना भी तर्कसंगत नहीं होगा ।


Vidya Softwares

संबंधित खबरें



0 Comments

एक टिप्पणी छोड़ें

 
2655